Thursday, May 19, 2011

दिए जलाये रखिये

तीरगी के दामन से खुद को बचाए रखिये 
हुज्जुर शाम से पहले दिए जलाये रखिये  

तीरगी- अँधेरा  

1 comment: