Sunday, May 1, 2011

इल्तजा है


चंद लोगों ने मेरी कलम को अपनी मेहर से नवाज़ा है 
ताउम्र अपना करम  बरसायें इतनी सी इल्तजा है   


मेहर- मेहरबानी 

2 comments:

  1. Beshak Hemantji

    ReplyDelete
  2. Ham aapke sukragujar hai
    Bipul

    ReplyDelete