Wednesday, June 1, 2011

मुहब्बात ही मुहब्बात

यारों यहाँ मुहब्बात ही मुहब्बात है प्यार यहीं है
अफ़सोस हम फकीरों की झोली में ताज नहीं हैं 

No comments:

Post a Comment