Monday, August 1, 2011

नज़रें पुरआब

जब तक नज़रें पुरआब नज़र आती हैं
नज़रों को वो नज़र पाक साफ़ नज़र आती है

No comments:

Post a Comment