Sunday, April 8, 2012

ज़ख्मों का जखीरा

ज़ख्मों का जखीरा बना ये जिगर मेरा 
उनकी बक्शी खरोंचें अब परीशां नही करती 

No comments:

Post a Comment